Breaking News

कालेजों, अस्पतालों, मुख्य सार्वजनिक स्थलों और मंडियों तक बनेगी सड़कें 

लखनऊ । उपमुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य ने विभागीय अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि आवंटित बजट का शत -प्रतिशत उपयोग सुनिश्चित किया जाए ।जहां काम में शिथिलता हो वहां के इंजीनियरों को दंडित करने की कार्रवाई की जाए । 46 मुख्य मार्ग राज्यमार्ग में परिवर्तित कर दिए गए हैं तो महत्वपूर्ण अन्य मार्गों को मुख्य मार्गों में परिवर्तित करने की कार्रवाई की जाए। मौर्य आज यहां लोक निर्माण विभाग स्थित तथागत सभागार में आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में लोक निर्माण विभाग व सेतु निगम के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे ।
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि निर्माण कार्य में किसी भी स्तर पर शिथिलता या लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा निर्माण कार्यों को ठोस व प्रभावी रणनीति बनाकर पूरा कराया जाए। उन्होंने यह भी कहा कार्यों में मानक और गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए तथा निर्धारित समय सीमा के अंदर हर हाल में कार्य पूर्ण होने चाहिए। उन्होंने जोर देते हुए कहा की कार्य धरातल पर नजर आने चाहिए और जनता को एहसास होना चाहिए कि सरकार उनके हितों के प्रति प्रतिबद्ध होकर काम कर रही है।
विभाग को अब तक प्राप्त बजट ,अमुक्त धनराशि व व्यय की गयी धनराशि की विस्तार से जानकारी हासिल की। उन्होंने कहा कि 250 तक की आबादी की बसावटो तक लगभग 1000 गांव को सड़क मार्गों से जोड़ने के लिए प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने कहा कि पुरानी जर्जर सड़कों की मरम्मत को भी प्राथमिकता के आधार पर कराया जाए। पुल व पुलिया व आरओबी आदि निर्माण कार्यो में भी तेजी लाई जाए ।
उन्होंने कहा स्टेट हाईवे व अन्य प्रमुख मार्गों पर भारी वाहनों से टोल टैक्स लेने की नीति जल्दी से जल्दी बना कर प्रस्तुत की जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए युवा सिविल इंजीनियरों को 10 लाख तक के ठेके देने के लिए कार्य योजना को शीघ्र ही अमल में लाने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि ठेकों में पिछड़े वर्ग व सामान्य वर्ग के गरीब लोगो व एससी-एसटी के लोगों को आरक्षण देने का प्राविधान जल्द से जल्द सुनिश्चित कराया जाए ।

उन्होंने कहा कि अभियान चलाकर कार्य पूरे किए जाएं और 15 -15 दिन में टाइमलाइन सेट करके कार्य पूरा कराया जाए ,कहा कि जो अधिकारी अच्छा रिजल्ट नहीं देंगे, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कालेजों व अस्पतालों व मुख्य सार्वजनिक स्थलों मंडियों तक सड़कों का निर्माण कराया जाएगा ।उन्होंने राज्य मार्गों के नामकरण के लिए भी सुझाव आमंत्रित किए। प्रयागराज से वाराणसी तक कांवर पथ के निर्माण के बारे में अब तक की गई कार्रवाई की जानकारी हासिल की ।

उन्होंने कहा कि लखनऊ में फ्लाईओवर व पुलों का निर्माण तेजी से चल रहा है, प्रयागराज के फ्लाईओवर व आरओबी आदि भी तेजी से पूरे किए जाएं। उन्होंने कहा डॉक्टर ए० पी० जे० अब्दुल कलाम गौरव पथ के नाम से मेघावी टॉप -20 छात्रों के घरों व स्कूलों तक सड़कों के निर्माण के कार्य को उच्च प्राथमिकता के आधार पर पूरा करा लिया जाए। बताया गया कि लोक निर्माण विभाग की सड़कें लगभग पूर्ण हो गई हैं, अन्य विभागों की जो सड़के हैं ,उनको लोक निर्माण विभाग में परिवर्तित कराकर उन्हें भी शीघ्र पूरा कराया जाए और वहां पर बड़े बोर्ड लगवाए जाएं तथा उन बोर्डो पर पूरा विवरण लिखते हुये बच्चों के फोटोग्राफ्स भी उन बोर्डों के ऊपर लगाये जांय।
उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि मार्गों के किनारे पड़ने वाले धार्मिक व सार्वजनिक स्थलों के पास छाया व कुर्सी आदि की व्यवस्था भी सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने कहा कि जो निरीक्षण भवन जींर्ण शीर्ण अवस्था में हैं ,उनकी मरम्मत तत्काल कराई जाए तथा जो नए बनने है व  बनरहेहैं ,उन्हें भी जल्दी से जल्दी पूरा करने की कार्यवाही की जाए ।
उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग में मैन पावर का भरपूर उपयोग किया जाए तथा विभागीय हॉट मिक्स प्लांटो का प्रयोग किया जाना सुनिश्चित किया जाए ।उन्होंने कहा कि टोल नीति लागू होने के बाद जो धनराशि आएगी ,उस धनराशि को सड़कों पर खर्च करने के लिए भी एक कार्य योजना बनाई जाए । 100 दिन का अभियान चलाकर कुछ ऐसे कार्य कराए जाएं जो विभाग के लिए और जनता के लिए मॉडल बने। निर्देश दिये कि गेस्ट हाउसों में भी कर्मचारियों की व्यवस्था सुनिश्चित करने की कार्यवाही की जाए। काशी मथुरा और अयोध्या में परिक्रमा मार्गो के निर्माण के बारे में भी जानकारी हासिल की ।
उन्होंने कहा कि अधिकारी ,जनप्रतिनिधियों व आम लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करें ।उप मुख्यमन्त्री ने निर्देश दिये कि लखनऊ में लोक निर्माण विभाग गेट के पास विश्वेश्वरैया गेट के निर्माण हेतु तत्काल शिलान्यास कराया जाए ।लोक निर्माण विभाग के पास डाक बंगले के विस्तारीकरण व मल्टी लेवल पार्किंग हेतु लो0नि0वि0 द्वारा डिजाइन तैयार की गई है ,उन्होने कहा कि इस कार्य को भी अमल में लाने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि सड़कों की जहां पर जांच होती है जांच के नाम पर कार्य रोका न जाए, जांच की कार्यवाही भी होगी और निर्माण कार्य चलता रहेगा।
बैठक में प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग  नितिन रमेश गोकर्ण ,सचिव लोक निर्माण विभाग रंजन कुमार ,विभागाध्यक्ष लोक निर्माण विभाग  राजीव रतन सिंह ,प्रमुख अभियंता सत्येंद्र कुमार श्रीवास्तव, प्रमुख अभियंता राजपाल सिंह, उत्तर प्रदेश सेतु निगम के प्रबंध निदेशक पी 0के0 कटियार,मुख्य अभियंता संजय गोयल, इंजीनियर जे के बांगा सहित अन्य अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Loading...

Check Also

दिल्ली हिंसा पर अमित शाह ने बुलाई मीटिंग, LG और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी होंगे शामिल

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में बीते सोमवार को हुई हिंसा में पांच लोगों की मौत हो ...